Breaking

Hindi Shayari : Hindi Love Shayari, Love Photo Shayari in Hindi

Hindi Shayari : Hindi Love Shayari, Love Photo Shayari in Hindi

Love Shayari : हेलो दोस्तों यहाँ हमने Love Shayari इमेज प्रकाशित की है हिंदी में खूबसूरत शायरी

इमेज के साथ लवली शायरी जबरदस्त Love Shayari फोटो है। ऐसी लव शायरी इमेज एचडी आपको

और कहीं नहीं मिलेगी। इसे पढ़ें और आपको पता चल जाएगा कि यह विशेष रूप से आपके लिए लव 

शायरी इमेज के साथ बनाया गया है मेरे प्यारे दोस्तों यहाँ आपके लिए हिंदी में सबसे अच्छी लव 

शायरी है आशा है कि आपको यह लव शायरी पोस्ट पसंद आएगी।

 

दिल को छू लेने वाली हिंदी शायरी आपको यहां पढ़ना अच्छा लगेगा। हमने सभी शेरो शायरी को हिंदी 

लिपि में पोस्ट किया है, खासकर शायरी प्रेमियों के लिए। आप इन हिंदी शायरियों को WhatsApp 

status के रूप में सेट कर सकते हैं या Facebook आदि पर साझा कर सकते हैं।




समझने ही नहीं देती सियासत हम को सच्चाई,

कभी चेहरा नहीं मिलता कभी दर्पन नहीं मिलता।

 

जो तीर भी आता वो खाली नहीं जाता,

मायूस मेरे दिल से सवाली नहीं जाता,

काँटे ही किया करते हैं फूलों की हिफाज़त,

फूलों को बचाने कोई माली नहीं जाता।

 

समंदर सही पर एक नदी तो होनी चाहिए

तेरे शहर में ज़िन्दगी कही तो होनी चाहिए

 

 

नज़रों से देखो तोह आबाद हम हैं

दिल से देखो तोह बर्बाद हम हैं

जीवन का हर लम्हा दर्द से भर गया

फिर कैसे कह दें आज़ाद हम हैं

 

मुझे नहीं मालूम वो पहली बार कब अच्छा लगा

मगर उसके बाद कभी बुरा भी नहीं

 

सच्ची मोहब्बत कभी खत्म नहीं होती

वक़्त के साथ खामोश हो जाती है

 

ज़िन्दगी के सफ़र में आपका सहारा चाहिए

आपके चरणों का बस आसरा चाहिए

हर मुश्किलों का हँसते हुए सामना करेंगे

बस ठाकुर जी आपका एक इशारा चाहिए

 

जिस दिल में बसा था नाम तेरा हमने वो तोड़ दिया

होने दिया तुझे बदनाम बस तेरे नाम लेना छोड़ दिया

 

तेरे ख्याल से खुद को छुपा के देखा है,

दिल--नजर को रुला-रुला के देखा है,

तू नहीं तो कुछ भी नहीं है तेरी कसम,

मैंने कुछ पल तुझे भुला के देखा है।

 

हम आपकी हर चीज़ से प्यार कर लेंगे,

आपकी हर बात पर ऐतबार कर लेंगे,

बस एक बार कह दो कि तुम सिर्फ मेरे हो,

हम ज़िन्दगी भर आपका इंतज़ार कर लेंगे।

 

जिनका मिलना मुकद्दर में लिखा नहीं होता,

उनसे मोहब्बत कसम से बा-कमाल होती है।

 

दिल से पूछो तो आज भी तुम मेरे ही हो,

ये ओर बात है कि किस्मत दगा कर गयी।



 

हर तन्हा रात में एक नाम याद आता है,

कभी सुबह कभी शाम याद आता है,

जब सोचते हैं कर लें दोबारा मोहब्बत,

फिर पहली मोहब्बत का अंजाम याद आता है।

 

हमें शायर समझ के यूँ नजर अंदाज मत करिये,

नजर हम फेर ले तो हुस्न का बाजार गिर जायेगा।

 

हमारी हैसियत का अंदाज़ा तुम ये जान के लगा लो,

हम कभी उनके नहीं होते जो हर किसी के हो गए।

 

हक़ीक़त ना सही तुम ख़्वाब बन कर मिला करो,

भटके मुसाफिर को चांदनी रात बनकर मिला करो।

 

आपकी आहट दिल को बेकरार करती है,

नज़र तलाश आपको बार-बार करती है,

गिला नहीं जो हम हैं इतने दूर आपसे,

हमारी तो जुदाई भी आपसे प्यार करती है।

 

उन्होंने हमें आजमाकर देख लिया,

इक धोखा हमने भी खा कर देख लिया,

क्या हुआ हम हुए जो उदास,

उन्होंने तो अपना दिल बहला के देख लिया।

 

होंगे वो कोई और जिनको कदर नहीं मोहब्बत की,

हम जिन्हें चाहते हैं , जिन्दगी बना लेते हैं।

 

कुछ मजबूरियां हैं वरना,

कहाँ रहा जाता है तेरे बिन।

 

दिल की जिद हो तुम वरना,

इन आँखों ने बहुत लोग देखे हैं।

 

माना की तेरी खूबसूरती के चर्चे हैं चार सौ,

देख मेरी सादगी के किस्से भी कुछ कम नहीं।

 

फिर हो मखमली तकिए की जरूरत मुझको,

तेरे बाजू जो कभी मेरे सरहाने लग जाए।

 

इश्क मेरा ऐहतेराम कर,

एक सरफिरे की अनमोल मोहब्बत हूँ मैं।

 

तेरा बिना एक पल नहीं गुजरा,

ये कहते कहते एक साल गुजर गया।

 

उसने आंसू भी मेरे देखे थे,

उसने फिर भी कहा के जाना है।

 

फिर कहीं भी पनाह नहीं मिलती,

मोहब्बत जब बे-पनाह हो जाये।

 

वही मुझको अकेला कर गयी,

जो कभी दुआओ में मांगती थी

 

जब मुझे कभी तेरा ख्याल जाता है,

मेरा दिल ज़ोरों से धड़कता रह जाता है,

तेरा ज़िक्र मेरे घर मे कभी जाता है,

मेरा घर फूलों की तरह महकता रह जाता है।

 

कौन कहता है इश्क बस गम देता है,

सही से निभाओ तो ज़िंदगानी बना देता है।

 

तेरी वफ़ा क्या है तेरी सदा क्या है,

क्या है तेरा इश्क तू ही जाने

लेकिन मैं क्या हूँ मेरी मोहब्बत क्या है,

ये तो मैं जानू और मेरा खुदा जाने।


 


 

बहारें जब खिलती हैं तब फूल खिलते जाते हैं,

इश्क जवां होता है और दो दिल मिलते जाते हैं,

इश्क की राह भी बहुत अजीब होती है,

आंखों से लफ्ज़ बयां होते हैं और होंठ सिल जाते हैं।

 

अगर वो हमें याद रखते हैं तो हम पर खुदा की इनायत होगी,

अगर वो हमें भूल गए तो हम पर हर लम्हे की शिकायत होगी,

हम शिक़वा करें भी तो किससे ये ज़माना वेबफा है,

और अगर तू हमे भूल भी जाए तो क्या रिवायत होगी।

 

मुहब्बत की इन्तिहां पूछिये, इस प्यार की वजह पूछिये,

हर सांस मे समाये रहते हो.. कहां बसे हो तुम जगह पूछिये।

 

सकून मिलता है जब उनसे बात होती है

हज़ार रातों में वो एक रात होती है,

निगाह उठाकर जब देखते हैं वो मेरी तरफ

मेरे लिए वो ही पल पूरी कायनात होती है।

 

इस से पहले की सारे ख्वाब टूट जाएँ

और यह ज़िन्दगी हम से रूठ जाए,

एक दुसरे के प्यार में खो जाएँ इस कदर

के हम सारे ग़मों को भूल जाएँ!

 

उनके दीदार के लिए दिल तड़पता है

उनके इंतजार में दिल तरसता है,

क्या कहें इस कम्बख्त दिल को.. 

अपना हो कर किसी और के लिए धड़कता है।

 

मेरी मोहब्बत पे ऐतबार तो किया होता जान

किसी और के होने से पहले मेरा इंतज़ार तो किया होता

 

किसी को बताने से मेरे अश्क़ रुक ना पायेंगे,

मिट जायेगी जिंदगी मगर ग़म धुल पायेंगे।

 

सुना है आज समंदर को बड़ा गुमान आया है,

उधर ही ले चलो कश्ती जहां तूफान आया है।

 

वहम से भी अक्सर खत्म हो जाते हैं कुछ रिश्ते

कसूर हर बार गल्तियों का नही होता

 

ये कहना था उन से मोहब्बत है मुझको ,

ये कहने में मुझ को ज़माने लगे हैं

 

बहुत खूबसूरत वो रातें होती हैं,

जब तुमसे दिल की बातें होतीं हैं।

 

प्यार मैं तुझसे करती हूँ,

और अपनी जिंदगी से ज्यादा करती हूँ।

 

खुदा करे वो मोहब्बत जो तेरे नाम से है,

हजार साल गुजरने पे भी जवान ही रहे।

 

तुम चाहे जिसके साथ रहोगे,

मुजको मेरे जैसे याद रहोगे।

 

 

नींद नहीं आती पर सोना हैं

आंसू नहीं आते पर रोना हैं ।।

 

हर दिन एक नई शुरुआत है,

कभी गम,तो कभी यादों की बारात है;

चलते रहना ही तो जिंदगी है,

थक कर रुक जाना ही मौत का आगाज है।

 

छोड़ जाने का इरादा बना था

फिर खूबियों का नजरंदाज होना था ।।

 

 

किसी की चंद गलती पर कीजिये कोई फैसला

बेशक कमियां होगी, पर कुछ खूबियां भी तो होगी हमारी

 

 

इश्क की गलियों में गुम हो चुका हूं

तेरे सिवा कोई और पता नहीं है मेरे पास

 


 

ईश्क़ इस क़दर मुझसे करते हैं  वो

हर बात पे मुझसे यूँही लड़ते हैं वो

तारीफ़ में उनकी क्या कहें मेरी जान!

रुला के मुझे ख़ुद ही रो पड़ते हैं वो

 

 

फ़क़त सह लेना ही नहीं

जिसने महसूस किया हो दर्द,

 उस से पूछो ईश्क़ क्या बला है

 

हादसे कुछ दिल पे ऐसे हो गये

हम समंदर से भी गहरे हो गये

 

 

चीख कर दर्द बताओ तो  मजाक बन जाऊ...

बेहतर है रों लू खुद ही  ओर मिट्टी में शमा जाऊ.!!

 

सीख रहा हूँ मै भी अब मीठा झूठ बोलने का हुनर,

कड़वे सच ने हमसे, ना जाने, कितने अज़ीज़ छीन लिए।

 

 

जन्नत--इश्क में हर बात अजीब होती है,

किसी को आशिकी तो किसी को शायरी नसीब होती है।

 

 

कुछ इस तरह से तुम मेरे साथ में रहना...!!

मैं तुम्हें लिख कर खुश रहूँ और तुम पढ़कर मुस्कुराते रहना....!!

 

रोना बेहतर समझ लिया मैंने उसका इंतजार करने के बदले,

रात भर रो कर सो जाना भी बुरा तो नहीं।

 

 

अभी जरा वक्त खराब है उसे मुझे आजमाने दो,

वह रो रो के पुकारेगा बस मेरा वक्त तो आने दो।

 

 

मेरे जीने का उमंग,

होसला हे तु ,!

मेरे जिंदगी का ,,

प्यारा फेसला हे तु ,,!!

 

 

क्युं अब कमाल कर दिया जाए...

तेरा जीना मुहाल कर दिया जाए...

तू जो पलट कर आना चाहे वापस

क्युं अब इंकार कर दिया जाए.!

 

मेरा सच्चा था इश्क

उसका शौक था इश्क

बहाना किया जुदाई का

उसे तजुर्बा था बेवफाई का

 

 

कल ख़्वाबों में कोई यूंही मुस्कुरा रहा था,

गौर से देखा तो तेरा चेहरा नज़र रहा था;

यूं लगा कि कुछ कहना चाहती थी मुझसे,

पर वो खामोश चेहरा ही तेरी मोहब्बत झलका रहा था।।

 

बेइन्तहा चाहत के गुरुर मे वो

कुछ इस तरह कमाल करता है.!

दर्द मुझे और शायरी किसी

और के नाम करता है..!!

 

इस जहां में सुकून कहां मेरे दोस्त,

सुकून की जिंदगी तो मौत ही दे सकती है।।

 

 

समझदार इन्सान जब संबंध निभाना बंद कर दे,

तो समझ लो उसके आत्मसम्मान को कहीं कहीं ठेस पहुँची है !!

 

 

अगर हो सकें तो सुकून की एक शाम दे मुझे,

ये ज़िन्दगी थोड़ा सा तो आराम दे मुझे...

 

आपकी खामोशी भी कमाल कर जाती है;

कुछ ना कह कर भी सवाल कर जाती है।।

 

 

वक्त के साथ मोहब्बत बदलते देखा हैं

वोह तब भी खुश नहीं थे अब भी खुश नहीं हैं ।।

 

 

जिंदगी...

तेरे नखरों से बेहतर तो school की किताबें  थीं देर से ही सही समझ तो आती थीं..

 

 

कभी फुरसत मिले तो पढ़ना मुझे,

मैं तुम्हारी बेमिसाल उलझनों का मुक्कमल समाधान हूँ..

 

 

तमन्ना तो हमने भी जन्नत की कि थी;

पर जमीन पे रह के मिल जाएगी,ये नहीं सोचा था।

 

हमारी दोस्ती का भी यही उसूल है ..

तू कुबूल, तो तेरी खामियां भी कुबूल हैं !!

 

 

वक़्त के साथ आदत बदली है हमने ...

बुरे कल भी नही थे और अच्छे आज भी नही है....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें